Search
Close this search box.
  • contact for advertisment
  • IAS Coaching

मध्य प्रदेश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारकों ने बनाई “जनहित पार्टी”, भारतीय जनता पार्टी को ही घेरने की तैयारी।

स्टार न्यूज़ एमपी डेस्क/भिण्ड

साढ़े 18 साल से अधिक समय से मध्य प्रदेश की सत्ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी एक ओर सत्ता विरोधी लहर (एंटी इनकंबेंसी) से परेशान है,तो कहीं आपसी गुट बाजी को लेकर फूट सामने आते रहती है तो दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी की बैकबोन कहा जाने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारकों का एक धडा भारतीय जनता पार्टी की नीतियों और रीतियों से परेशान होकर एक माह पूर्व 10 सितंबर को जनहित पार्टी का गठन कर सत्ता के विरोध में ही अपने कैंडिडेट उतारने का बिगुल बजा चुका है, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के इंदौर के पूर्व प्रचारक रहे अभय जैन ने जनहित पार्टी का गठन कर प्रदेश भर में 25 से 30 सीटों पर कैंडिडेट उतारने की घोषणा कर दी है, साथ ही इंदौर-1से कैलाश विजयवर्गी के सामने ताल ठोकने के लिए तैयार है, दरअसल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व प्रचारक और जनहित पार्टी के संस्थापक अभय जैन आज पार्टी विस्तार कार्यक्रम के तहत एकदिवसीय दौरे पर भिंड पहुंचे और एक निजी मैरिज गार्डन में पार्टी विस्तार के लिए जिला सम्मेलन का आयोजन किया था, इस दौरान मीडिया से चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि उनका पार्टी गठन का उद्देश्य चुनाव में बेहिसाब पैसे की चमक दमक उपयोग हो गया है, धन से मुक्त राजनीति जनता के बल पर करने की शुरुआत के लिए पार्टी का गठन किया है, वही भिंड जिले की पांच विधानसभाओं में से चार में जनहित पार्टी कैंडिडेट उतारने का बन चुकी है, अभय जैन मीडिया के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि भाजपा का नुकसान तो उनकी अपनी कमियां से हो रहा है,हमारे कारण तो कोई बड़ा नुकसान होगा हम नहीं मानते,
अभय जैन ने भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर आरोपी की झड़ी लगाते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति थाने ने जाए और ईमानदारी से काम तो हो जाए वहां बिना पैसे के रिपोर्ट ईमानदारी से लिख जाए,कोर्ट कचहरी,स्कूल, मैं बिना पैसे के काम होता नहीं जिस स्कूल में मास्टर है लेकिन वहां पढ़ाई नही,अस्पताल में डॉक्टर नही बिना पैसे के इलाज नही, कचहरी के अंदर जाति का प्रमाण पत्र बनाना हो या भूमि का नामांतरण हो कोई। काम ना समय पर होता है और ना बिना पैसे के होता है, किसान मंडी में परेशान है, सोसाइटी में परेशान है, भाव के लिए परेशान हो रहा है, बिजली के लिए परेशान है, मतलब मेरे इंदौर में बिजली चल रही है 24 घंटे रात भर बाजार और दुकान चमक रही है मौज मस्ती भी चल रही है, मौज-मस्ती के लिए लाइट है लेकिन ग्रामीण एंकरों में किसानों को 3 घंटे लाइट मिल रही है अन्नदाता की फसल के लिए लाइट नहीं है लेकिन माल और चमक दमक के लिए लाइट है, भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह कोई शासन नहीं है, इसलिए सरकार की प्राथमिकताएं सही हो प्रशासन ईमानदार हो जनता के प्रति जवाब दे हो लोगों के काम टाइम पर दफ्तर में हो और मैं दफ्तर में जाऊं तो कम से कम मेरे साथ सम्मान का व्यवहार तो हो, अपमान तो नहीं हो, सरकारें आती है बदलती हैं, पर यह ढर्रा बिल्कुल नहीं बदल रहा,मतलब इस शासन के मूल ढर्रे को बदलने के लिए हमारी पार्टी ने यह निर्णय किया है कि जब तक हम राजनीति को धन और एक चमक-धमक से मुक्त नहीं करेंगे तब तक हम यह बदलाव नहीं कर पाएंगे, क्योंकि पैसे से चुनाव जीतेंगे तो पैसे वालों के लिए काम करना हमारी बाध्यता होती है, हम जब इसको जनता के बल पर और कम खर्चे में सीधा-साधा चुनाव लड़ेंगे तभी जाकर के हम शासन प्रशासन की नीतियों और उसके कामकाज के तौर तरीकों में बुनियादी बदलाव ला सकते हैं, और इसी को लेकर हमारी पार्टी जनता के भरोसे के साथ सामने आई है।

Star News MP
Author: Star News MP

Leave a Comment





यह भी पढ़ें